Gujarat मुफ्त राशन योजना 2020 in Coronavirus Lockdown

गुजरात सरकार ने नि: शुल्क राशन योजना 2020-21 में 60 लाख APL 1 परिवारों को लाभान्वित करने के लिए, सभी राशन कार्ड धारकों को 10 किलो गेहूं, 3 किलो चावल, 1 किलो दाल, और 1 किलो चीनी मुफ्त में कोरोनोवायरस (COVID-19) महामारी से निपटने के लिए यह योजना शुरू करवाई है।

गुजरात सरकार ने कोरोनावायरस (COVID-19) से निपटने के लिए मुफ्त राशन योजना 2020 शुरू करने की घोषणा की है। इस योजना में, राज्य सरकार गेहूं, चावल, दाल, चीनी जैसी खाद्य सामग्री बिल्कुल मुफ्त प्रदान करेगा। यह योजना यह सुनिश्चित करेगी कि 21 दिन लॉकडाउन अवधि के दौरान राज्य में कोई भी गरीब लोग भूखे न रहें। इस योजना से लगभग 60 लाख APL राशन कार्ड धारक परिवार (3.25 करोड़ लोग) लाभान्वित होंगे।

[lwptoc title=”Contents”]

Gujarat Free Ration Scheme

कोरोनावायरस (COVID-19) एक महामारी है जो सामुदायिक संचरण का रूप ले ले तो काफी डरावना है। चीन में वुहान से शुरू होने वाला यह रोग इटली, स्पेन और दुनिया भर में 180+ देशों में एक प्रमुख प्रकोप है। भारत में और विशेष रूप से गुजरात में इसके प्रकोप को रोकने के लिए, राज्य सरकार। ने मुफ्त राशन योजना 2020-21 शुरू की है। इस योजना से सभी गरीब लोगों को दैनिक वेतन भोगी श्रमिकों के साथ-साथ लॉकडाउन अवधि में उचित खाद्य आपूर्ति सुनिश्चित करके लाभ होगा।

Topic Name Gujarat मुफ्त राशन योजना 2020 in Coronavirus Lockdown
Launched By Gujarat Government
Beneficiaries 60 Lakh APL 1 Families
Objective Providing Free Ration
Official Website ——————

Gujarat मुफ्त राशन योजना 2020-21

गुजरात सरकार ने 8 अप्रैल 2020 को गरीबी रेखा (एपीएल) परिवारों के ऊपर लगभग 60 लाख तक मुफ्त राशन प्रदान करने की घोषणा की, जो राष्ट्रीय खाद्य सुरक्षा अधिनियम (NFSA) में शामिल नहीं हैं। सीएम विजय रूपाणी की देखरेख में हुई कैबिनेट की बैठक में यह निर्णय लिया गया। प्रत्येक एपीएल -1 कार्ड धारक परिवार को निम्न वस्तुएं मुफ्त में मिलेंगी ।:-

  • 10 किलो गेहूं
  • 3 किलो चावल
  • 1 किलो दाल
  • 1 किलो चीनी

राज्य सरकार ने तो प्राथमिकता वाले राशन कार्ड या अंत्योदय राशन कार्ड रखने वाले लगभग 65 लाख परिवारों को मुफ्त राशन वितरित किया है। गुजरात मुफ्त राशन योजना 2020-21 के तहत आवश्यक खाद्य वस्तुओं का वितरण उचित मूल्य की दुकानों के माध्यम से किया जाएगा। यह योजना यह सुनिश्चित करेगी कि गरीब जो आजीविका के लिए दैनिक मजदूरी पर निर्भर है, कोरोनोवायरस (Coronavirus) प्रकोप के कारण 21 दिन के राष्ट्रव्यापी लॉकडाउन से प्रभावित नहीं होता है।

APL-1 परिवारों के लिए मुफ्त राशन योजना की आवश्यकता

यह योजना यह सुनिश्चित करेगी कि खरीदारों को मासिक राशन खरीदने के लिए राशन की दुकानों के सामने लाइन में नहीं लगना पड़ेगा। लोगों को अप्रैल महीने के लिए खाद्य पदार्थों की खरीद नहीं करनी होगी। लॉकडाउन के तहत पूरे देश के साथ, गुजरात सरकार ने भी ऐसा फैसला लिया है। गरीब परिवारों के लिए यह महत्वपूर्ण निर्णय लिया है। कई APL-1 राशन कार्ड धारक परिवार हैं, जिन्हें मुफ्त राशन की आवश्यकता थी, लेकिन उन्हें अस्वीकार कर दिया गया क्योंकि उनका नाम NFSA लाभार्थियों की सूची में शामिल नहीं था।

गुजरात में मुफ्त राशन योजना (Gujarat Free Ration Scheme) के तहत लगभग 60 लाख परिवारों या 3.25 करोड़ व्यक्तियों को राशन कार्ड मिलेगा। इसमें प्रति व्यक्ति 10 किलो गेहूं और 3 किलो चावल और प्रति परिवार 1 किलो दाल, चीनी और नमक शामिल है। मुख्यमंत्री ने कहा कि उनकी सरकार राज्य के गरीब परिवारों के बारे में चिंतित है और यह सुनिश्चित करने के लिए निर्णय लेती रहेगी कि लॉकडाउन के दौरान उन्हें बाधाओं का सामना न करना पड़े।

 

गुजरात में मुफ्त राशन वितरण की समय सीमा

इस कोरोनोवायरस (Coronavirus) महामारी के कारण सरकार अपने अपने राज्यों के लिए विभिन प्रकार के उपाय कर रही है। गुजरात में मुफ्त राशन योजना के वितरण की तारीख बाद में तय की जाएगी। राज्य सरकार ने गुजरात में योजना की संपूर्ण लागत वहन करने का निर्णय लिया है। सीएम ने आग्रह किया कि केवल वे परिवार जो संकट में हैं और खाद्यान्न की आवश्यकता है उन्हें सरकार की योजना का लाभ उठाना चाहिए। जो लोग सही से अपनी ज़िन्दगी जी रहे है उनसेआग्रह किया जाता है कि, उन्हें केवल जरूरतमंदों को ही योजना का लाभ उठाने देना चाहिए।

मुफ्त राशन योजना

जैसा कि 21 दिनों के लिए काम बंद कर दिया गया है, दैनिक आजीविका कमाने वाले गरीब परिवारों को बड़ी समस्याओं का सामना करना पड़ता है। सीएम ने कहा कि संवेदनशील सरकार इसे समझती है और भविष्य में इस तरह के और फैसले लेगी, ताकि ऐसे लोगों को ज्यादा बाधा का सामना न करना पड़े। सीएम विजय रूपाणी ने भी लोगों से 21 दिनों के लिए घर के अंदर रहने का अनुरोध किया। गुजरात सरकार ने अब तक कॉर्नावायरस के 241 मामले और COVID​​-19 के कारण 17 मौतें हुई हैं। इस समय पूरे राज्य में तालाबंदी चल रही है।


Frequently Asked Questions

गुजरात मुफ्त राशन योजना 2020-21 में कौन लाभान्वित होंगे?

इस योजना में 60 लाख APL 1 परिवारों को लाभान्वित होंगे।


गुजरात मुफ्त राशन योजना किसने शुरू करवाई है?

यह योजना गुजरात सरकार की तरफ से कोरोनावायरस से निपटने के लिए सभी जरूरतमंद लोगों की सहायता करने का पहल है।


प्रत्येक एपीएल -1 कार्ड धारक परिवार को कौन कौन सी चीजें मुफ्त में मिलेगी?

प्रत्येक एपीएल -1 कार्ड धारक परिवार को 10 किलो गेहूं, 3 किलो चावल, 1 किलो दाल, 1 किलो चीनी मुफ्त में मिलेगी।


गुजरात में मुफ्त राशन योजना के तहत लगभग कितने व्यक्तियों को राशन कार्ड मिलेगा?

गुजरात में मुफ्त राशन योजना के तहत लगभग 60 लाख परिवारों या 3.25 करोड़ व्यक्तियों को राशन कार्ड मिलेगा।

Leave a Comment