[COVID-19] Gujarat Anna Brahma Yojana [ऑनलाइन अप्लाई]

Gujarat Anna Brahma Yojana

गुजरात सरकार ने अन्ना ब्रह्म योजना 2020-21(Gujarat Anna Brahma Yojana) में प्रवासी मजदूरों को नि: शुल्क खाद्यान्न उपलब्ध कराने के लिए राशन कार्ड न होने के कारण कोरोनावायरस (COVID-19) महामारी से निपटने के लिए यह योजना शुरू करवाई है।

देश वर्तमान में कोरोनावायरस (COVID-19) के प्रकोप के कारण लॉकडाउन से गुजर रहा है, इसलिए सरकार गुजरात अन्ना ब्रह्मा योजना (Gujarat Anna Brahma Yojana) के साथ आई है, जिसे राज्य में रहने वाले सभी प्रवासी कामगारों की मदद के लिए बहुत जल्द लागू किया जाएगा। इस लेख में आज हम आपके साथ गुजरात अन्ना ब्रह्मा योजना के सभी महत्वपूर्ण पहलुओं को साझा करेंगे। इस लेख में, हम आपके साथ कदम से कदम प्रक्रिया भी साझा करेंगे जिसके माध्यम से आप मुफ्त राशन ले सकते हैं जो गुजरात सरकार द्वारा वितरित किया गया है।

गुजरात सरकार राज्य में COVID-19 लॉकडाउन के दौरान अटके अन्य राज्यों के प्रवासी मजदूरों के लिए अन्ना ब्रह्मा योजना 2020-21 को लॉन्च करेगी। अब गुजरात की नई अन्ना ब्रह्मा योजना में सभी गैर राशन कार्ड धारक प्रवासी श्रमिकों को खाद्यान्न और अन्य खाद्य पदार्थ बिल्कुल मुफ्त मिलेंगे। यह निर्णय यह सुनिश्चित करने के लिए लिया गया है कि राष्ट्रव्यापी 21 दिन के कोरोनावायरस कर्फ्यू के दौरान राज्य में कोई भी व्यक्ति भूखा न रहे।

नई अन्ना ब्रह्म योजना में उत्तर प्रदेश (यूपी), मध्य प्रदेश (एमपी), बिहार, पश्चिम बंगाल, केरल, तमिलनाडु आदि जैसे अन्य राज्यों के कार्यकर्ता शामिल होंगे। संक्षेप में, वे सभी लोग वर्तमान में गुजरात में मौजूद हैं जिनके पास राशन कार्ड नहीं है। उनके नाम पर राशन कार्ड अब अपनी आजीविका बनाए रखने के लिए मुफ्त राशन प्राप्त कर सकते हैं।


Gujarat अन्ना ब्रह्मा योजना 2020-21

राज्य सरकार ने गुजरात में अन्य राज्यों जैसे कि यूपी, एमपी, बिहार, पश्चिम बंगाल, केरल, तमिलनाडु आदि से प्रवासी मजदूरों के लिए अन्ना ब्रह्मा योजना (Anna Brahma Yojana) शुरू होगी। यह योजना इस दृष्टि से महत्वपूर्ण है कि कोरोनोवायरस (Coronavirus) लॉकडाउन से पहले, विभिन्न राज्यों के कई लोग जैसे काम कर रहे थे। दैनिक दांव। लेकिन लॉकडाउन में, किसी भी व्यक्ति को काम करने की अनुमति नहीं है और इन प्रवासी श्रमिकों को अब राशन की कमी, आवश्यक वस्तुओं के साथ-साथ पैसे की भी समस्या का सामना करना पड़ रहा है।

तदनुसार, गुजरात सरकार ने उन सभी लोगों को नि: शुल्क खाद्यान्न उपलब्ध कराने के लिए अन्ना ब्रह्म योजना शुरू की है, जिनके पास राशन कार्ड नहीं हैं। यह अन्ना ब्रह्मा योजना 4 अप्रैल 2020 से शुरू होगी और जिला प्रशासन ऐसे सभी मजदूरों की सूची तैयार कर रहा है। मुख्यमंत्री विजय रूपानी ने रुपये की घोषणा की है। राज्य के गरीब, मजदूर, असंगठित श्रमिकों और निर्माण श्रमिकों के 65 लाख परिवारों के लिए 650 करोड़ का पैकेज।

Details of गुजरात अन्ना ब्रह्म योजना

Name of Article Gujarat Anna Brahma Yojana
Launched by Gujarat Government
Beneficiaries Migrant Workers (प्रवासी कामगार)
Main Objective Provide free of cost ration
Official website –   

Important Information

4 अप्रैल 2020 को इस योजना का उद्घाटन किया ।


Gujarat Anna Brahma Yojana के लाभ
 

गुजरात अन्ना ब्रह्मा योजना

इस योजना के कई लाभ हैं। मुख्य लाभ जो राज्य के निवासियों को प्रदान किया जाएगा, वह प्रवासी श्रमिक के लिए खाद्य पदार्थों की नि: शुल्क उपलब्धता की उपलब्धता होगी जो अन्य राज्यों जैसे कि उत्तर प्रदेश, मध्य प्रदेश या यहां तक कि बिहार से आए हैं। सभी निवासी किसी को भी पैसा दिए बिना भोजन प्राप्त कर सकेंगे। आपके घरों के पास राशन की दुकान पर खाद्य सामग्री उपलब्ध होगी। यह योजना गुजरात राज्य के सभी गरीब लोगों के लिए एक बड़ी पहल है। सरकार ने राज्य में 83 राहत शिविर स्थापित किए हैं, जहां प्रवासी मजदूरों के गरीब परिवारों और अन्य लोगों को भोजन और आश्रय मिल रहा है।

Important Documents

पीडीएस दुकानों से मुफ्त राशन प्राप्त करते समय निम्नलिखित दस्तावेजों की आवश्यकता होती है: –

  • आधार कार्ड (Aadhaar Card)
  • पहचान प्रमाण (Photo ID Proof)
  • प्रवासी श्रमिक का प्रमाण पत्र (Migrant Worker Certificate)

Registration Process

योजना के तहत कोई निश्चित पंजीकरण प्रक्रिया नहीं है। आप इस योजना का लाभ उठा पाएंगे यदि आपके पास एक सही प्रमाण है कि आप दूसरे राज्यों से आए प्रवासी श्रमिक हैं। आपको अपने नजदीकी पीडीएस कार्यालय से राशन मिलेगा।

पात्रता मापदंड (Eligibilty Criteria)

इस योजना का लाभ उठाने के लिए, आपको दिए गए पात्रता मानदंड को पूरा करना होगा।

  • यह योजना गुजरात सरकार द्वारा प्रवासी मजदूरों के लिए शुरू की गई है, इसलिए केवल अन्य राज्यों के प्रवासी मजदूर ही इस योजना का लाभ ले पाएंगे।
  • प्रवासी मजदूरों को इस योजना का लाभ लेने की अनुमति तभी दी जाएगी जब वेध पहचान पत्र उपलब्ध हो।
  • गुजरात में रहने वाले किसी भी राज्य के श्रमिक, जो लॉक-डाउन की स्थिति में अपने घर नहीं जा सकते थे, इस योजना का लाभ ले सकेंगे।


Gujarat Govt. COVID-19 महामारी से निपटने की पहल

 COVID-19 महामारी से निपटने के लिए गुजरात सरकार द्वारा विभिन्न पहल की गई हैं, जो इस प्रकार है: –

  • 1,000 रूपए सहायता – राज्य में मजदूरों, असंगठित श्रमिकों, निर्माण श्रमिकों, घर-सहायकों के परिवारों को अप्रैल के महीने के लिए 1,000 रूपए।
  • बिजली शुल्क माफी – अब सीएम ने घोषणा की है कि, 50 इकाइयों की खपत पर 1.50 बिजली शुल्क लगेगा जो पहले बीपीएल परिवारों के लिए 30 यूनिट था। राज्यों में छोटे उद्योगों, कारखानों और MSME के लिए अप्रैल महीने के लिए बिजली बिल पर फिक्स्ड शुल्क माफ कर दिया गया है।
  • गौशालाओं / मवेशियों के लिए वित्तीय सहायता – राज्य सरकार गुजरात ने घोषणा की है कि सभी गौशालाओं और पशु तालाबों के लिए 30 से 35 करोड़ रूपए की वित्तीय सहायता। इस पहल के तहत, अप्रैल 2020 के लिए 25 रूपए प्रति पशु सभी गौशालाओं और पशु तालाबों को प्रदान किया जाएगा।
  • वृद्धावस्था / विधवा / विकलांग को अग्रिम पेंशन – गुजरात सरकार वरिष्ठ नागरिकों, विधवाओं और विकलांग व्यक्तियों सहित पेंशनरों को अग्रिम भत्ता भी दिया है।
  • प्रत्यक्ष लाभ अंतरण – राज्य सरकार ने 13 लाख से अधिक लोगों को लाभान्वित करने के लिए व्यक्ति के बैंक खातों में 221 करोड़ रूपए जमा किए हैं।
  • कर्मचारियों को पूर्ण वेतन – गुजरात सरकार छोटे और बड़े व्यवसायों और MSME को अपने कर्मचारी के वेतन और उनके मजदूरों को नियमित रूप से बिना किसी कटौती के भुगतान करने के लिए पूरे लॉकडाउन अवधि तक यानी 14 अप्रैल 2020 तक भुगतान करने का निर्देश दिया।

गुजरात सरकार ने राज्य में 83 राहत शिविर स्थापित किए हैं, जहां प्रवासी मजदूरों के गरीब परिवारों और अन्य लोगों को भोजन और आश्रय मिल रहा है। कई गैर-सरकारी संगठन, संगठन और धर्मार्थ ट्रस्ट भी इस तरह के काम को अंजाम देते हैं और ऐसी परिस्थितियों में सरकार की मदद करते हैं।


Frequently Asked Questions

गुजरात सरकार द्वारा योजना कब शुरू की गई?

राज्य सरकार ने यह योजना 4 अप्रैल, 2020 को शुरू करवा दी गई थी।


गुजरात सरकार की इस योजना का लाभ कौन उठा पाएगा?

प्रवासी मजदूर गुजरात सरकार की इस योजना का लाभ उठा सकेंगे।


कौन से राज्य के प्रवासी मजदूर गुजरात सरकार की इस योजना का लाभ ले पाएंगे?

सभी 28 राज्यों और केंद्र शासित प्रदेशों के प्रवासी मजदूर गुजरात सरकार की इस योजना का लाभ ले पाएंगे।

Leave a Comment