PM स्‍वामित्‍व योजना 2020 | Download E-Gram Swaraj App

PM Swamitva Yojana 2020

पीएम स्‍वामित्‍व योजना 2020 पंजीकरण, ई-ग्रामस्वराज पोर्टल ऑनलाइन: जैसा कि आप सब को पता है कि 24 अप्रैल 2020 को देश में राष्ट्रीय पंचायती राज दिवस (National Panchayati Raj Diwas) मनाया जाता है। इस लेख में, हम आपको प्रधानमंत्री ग्राम स्वामित्व योजना के बारे में बताएँगे, ई-ग्रामस्वराज पोर्टल ऐप (E-GramSwaraj Portal App) ऑनलाइन डाउनलोड और उसका उपयोग कैसे करें। इस दिन प्रधानमंत्री श्री नरेंद्र मोदी जी ने देश भर के विभिन्न ग्राम पंचायतों को संबोधित किया था। 

जैसा कि आप सब जानते हैं कि देश में कोरोनोवायरस (Coronavirus) लॉकडाउन के कारण देश के प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी जी ने सभी ग्राम पंचायतों के साथ वीडियो-कॉन्फ़्रेंस के माध्यम से बात करी थी। इस सम्मेलन के दौरान, उन्होंने एकीकृत संपत्ति सत्यापन समाधान के लिए पीएम स्वामित्व योजना का शुभारंभ किया और ई-ग्रामस्वराज पोर्टल का भी उदघाटन किया, और ई-ग्रामस्वराज ऐप ऑनलाइन मोड के माध्यम से स्वामित्व योजना का भी शुभारंभ किया।

Topic Name PM स्‍वामित्‍व योजना 2020 | Download E-Gram Swaraj App
Article Category स्वामित्व योजना (Swamitva Yojana)
ई-ग्राम स्वराज पोर्टल और मोबाइल ऐप
PM Swamitva Yojana 2020
What is ग्राम स्वराज पोर्टल
ई-ग्राम स्वराज ऐप Download
Frequently Asked Questions
eGramSwaraj App Download App

स्वामित्व योजना (Swamitva Yojana)

स्वामित्व योजना देश के सभी ग्रामीण क्षेत्रों के लिए एक एकीकृत संपत्ति सत्यापन समाधान प्रदान करना है। इस योजना के तहत अब ग्रामीण क्षेत्र की आबाद भूमि का सीमांकन नवीनतम सर्वेक्षण विधियों के अनुसार किया जाएगा। ग्रामीण क्षेत्रों की पंचायतें लंबे समय से इस योजना के शुरू होने की उम्मीद कर रही थीं। आबाद भूमि के सीमांकन के लिए, नवीनतम सर्वेक्षण पद्धति ड्रोन की तकनीक है।

Application Name e- Gram Swaraj Mobile App 
Application Launched by Prime Minister Narendra Modi
App Introduced On 24th April 2020 on the occasion of National Panchayati Raj Diwas (राष्ट्रीय पंचायती राज दिवस)
Purpose of the App To apply the latest surveying methods
Beneficiaries Panchayati Raj System
Scheme Type Central Scheme  
Phase/ Financial Year Pilot Phase/ FY 2020-21
Fund Rs.79.65 crores
Website of Ministry of Panchayat panchayat.gov.in
Guidelines of Swamitva Yojana Guidelines
Brochure of E-gramswaraj Brochure
Website of the e-gramswaraj portal egramswaraj.gov.in


ई-ग्राम स्वराज पोर्टल और मोबाइल ऐप

जैसा कि आप सभी जानते है कि राष्ट्रीय पंचायती राज दिवस के अवसर पर, भारत के प्रधान मंत्री नरेंद्र मोदी ने विभिन्न ग्राम पंचायतों के ग्राम प्रधानों के साथ बातचीत की है। इस लॉकडाउन के चलते लोग सोशल डिस्टेंसिंग का पालन कर रहे हैं इसलिए पीएम ने इन ग्राम पंचायतों से वीडियो कॉन्फ्रेंसिंग के जरिए बातचीत की।

इस सहभागिता के साथ, पीएम ने ई-ग्राम स्वराज मोबाइल ऐप (e-Gram Swaraj Mobile App) नाम से एक ऐप भी लॉन्च किया है। यह ऐप पंचायती राज मंत्रालय की एक पहल है। इस ऐप के माध्यम से, पंचायती राज मंत्रालय ग्राम पंचायतों को अपनी ग्राम पंचायत विकास योजना (GPDP) को तैयार करने और लागू करने के लिए एक एकल इंटरफ़ेस प्रदान करेगा। आपको यह जानने कि बहुत उत्सुकता होगी कि यह ऐप क्या है और यह ऐप ग्राम पंचायतों को अपने काम करने के तरीके को बेहतर बनाने में कैसे मदद करेगा। यहां हमने इस ऐप से संबंधित सभी विवरण संकलित किए हैं।

24 अप्रैल को हर साल राष्ट्रीय पंचायती राज दिवस (National Panchayati Raj Day) (NPRD) के रूप में मनाया जाता है। 24 अप्रैल 1993 को पंचायती राज का संस्थागतकरण किया गया। इसके लिए संविधान में संशोधन पेश किया गया था। 73 वें संशोधन अधिनियम, 1992 के साथ पंचायती राज का संस्थागतकरण लागू हुआ। तब से हर साल 24 अप्रैल को राष्ट्रीय पंचायती राज दिवस के रूप में मनाया जाता है। इस दिन के अवसर पर पीएम देश भर के पंचायत प्रतिनिधियों के साथ बातचीत करते हैं। इस दिन अधिकारी अपनी उपलब्धियों को सशक्त बनाने और उन्हें आगे बढ़ाने के लिए प्रेरित करते हैं।

इस वर्ष राष्ट्रीय पंचायती राज दिवस के अवसर पर ई-ग्राम स्वराज पोर्टल और मोबाइल ऐप लॉन्च किया गया है। पोर्टल का नाम egramswaraj.gov.in है। देश के सभी लोग इस वेबसाइट से संबंधित मोबाइल ऐप को पोर्टल से भी डाउनलोड कर सकते हैं। इस लेख में आगे, हमने आपके मोबाइल फोन पर ऐप डाउनलोड करने की प्रक्रिया को संकलित किया है।


PM Swamitva Yojana 2020

ग्राम स्वराज पोर्टल के शुभारंभ के साथ-साथ पीएम ने पीएम स्‍वामित्‍व योजना भी शुरू की है। इस योजना के तहत अब देश के ग्रामीण क्षेत्र में आवासीय भूमि के स्वामित्व को मैप करना आसान होगा। यह मैपिंग ड्रोन के इस्तेमाल जैसी आधुनिक तकनीक के जरिए की जाएगी। इस योजना की मदद से अब जमीन और उनके मालिकों पर रिकॉर्ड बनाना आसान हो जाएगा। केंद्र सरकार के इस कदम से एक जमीन पर ग्रामीण क्षेत्र में विवादों की संख्या में कमी आएगी।

ई-ग्राम स्वराज पोर्टल

जब हम इस योजना के लाभों को देखते हैं तो हमें इस बिंदु को समझना होगा कि अधिकांश लोगों के पास ग्रामीण क्षेत्र में अपनी जमीन के कागज़ात नहीं हैं। इस मामले में, ग्रामीण क्षेत्रों में विवादों की संभावना बढ़ जाती है। यह योजना इस अंतर को भरेगी और लोगों को ग्रामीण क्षेत्रों में भूमि के स्वामित्व के बारे में जागरूक करेगी।

गाँव के प्रत्येक व्यक्ति की भूमि को मापने के लिए ड्रोन से मदद ली जाएगी। ड्रोन एक गाँव की भौगोलिक सीमा के अंतर्गत आने वाली संपत्ति का एक डिजिटल नक्शा तैयार करेगा। इस डिजिटल मैप की मदद से लोगों के स्वामित्व को अंतिम रूप दिया जाएगा। स्वामित्व की पुष्टि करने के लिए गांव में प्रत्येक संपत्ति के लिए एक संपत्ति कार्ड तैयार किया जाएगा। ये कार्ड संपत्ति मालिकों को दिए जाएंगे और इन कार्डों को भू-राजस्व रिकॉर्ड विभाग द्वारा स्वामित्व दस्तावेज़ के रूप में मान्यता दी जाएगी।

अब पंचायत स्तर पर एक गांव का संपत्ति रिकॉर्ड प्रबंधित किया जाएगा। स्थानीय भूस्वामियों से करों का संग्रह भी केवल इस स्तर पर किया जाएगा और एकत्रित धन का उपयोग स्थानीय क्षेत्र और लोगों के लाभ के लिए किया जाएगा।


पीएम स्वामित्व योजना का उद्देश्य

इस योजना के निम्नलिखित उद्देश्य हैं-

  • उचित भूमि रिकॉर्ड बनाना ताकि ग्रामीण नियोजन प्रभावी हो सके।
  • ग्रामीण भूमि धारकों को वित्तीय स्थिरता प्रदान करने के लिए।
  • संपत्ति में लगाए गए कर का निर्धारण करने के लिए।
  • संपत्ति से संबंधित विवादों और कानूनी मामलों को खत्म करना।
  • अच्छी गुणवत्ता वाली जीडीपी तैयार करने में सहायता प्रदान करना।
  • जीआईएस (GIS) नक्शे और सर्वेक्षण बुनियादी ढांचे बनाने के लिए।

What is ग्राम स्वराज पोर्टल

ई-ग्राम स्वराज पोर्टल के लॉन्च से पहले ही शहर में चर्चा का विषय बना हुआ है। यह परियोजना भारत में पंचायती राज मंत्रालय द्वारा शुरू की गई है। जब आप ग्राम स्वराज के पोर्टल पर जाएंगे तो आपको वहां एक डैशबोर्ड मिलेगा। पोर्टल पर डैशबोर्ड में वाउचर की राज्य संख्या और भुगतान की स्थिति का नाम है। इस पोर्टल की मदद से विकेन्द्रीकृत योजना (Decentralized Planning), प्रगति रिपोर्टिंग (Progress Reporting) और कार्य-आधारित लेखांकन (Work-based Accounting) को देखना आसान होगा।

यहां पोर्टल पर, आप बनाए गए प्रोफाइल की संख्या पा सकते हैं। पोर्टल पर एक नया प्रोफाइल बनते ही सभी नंबर डिफ़ॉल्ट रूप से अपडेट हो जाएंगे। यहां विभिन्न योजनाओं की वित्तीय प्रगति (Financial Progress) आसानी से दिखाई देती है। इस पोर्टल पर अनुमोदित GPDPs (ग्राम पंचायत विकास योजनाएं) और शुरू की गई geo-टैगिंग (Geo-tagging) की संख्या का भी आसानी से पता लगाया जा सकता है। पोर्टल में एक रिपोर्ट अनुभाग (Report section) भी होगा। इस खंड में, आगंतुक पंचायत प्रोफाइल (Panchayat Profile), लेखा (Accounting), योजना (Planning), और PFMS डैशबोर्ड, और सहायक दस्तावेज़ (Supporting Documents) अनुभाग देख सकते हैं। पोर्टल में निम्नलिखित रिपोर्ट अनुभाग हैं, जैसे कि- Panchyat प्रोफ़ाइल, योजना (Planning), लेखा (Accounting) और PFMS डैशबोर्ड। अब तक केवल अकाउंटिंग, और पीएफएमएस डैशबोर्ड पोर्टल पर काम कर रहे हैं। बाकी दो विकल्प जल्द ही काम करना शुरू कर देंगे क्योंकि पोर्टल अभी ही लॉन्च किया गया है।


Structure of e-Gram Swaraj

यहां 6 विभिन्न प्रकार की life cycle गतिविधियाँ हैं जो मोबाइल ऐप के माध्यम से की जा सकती हैं। यहाँ life cycle पर एक नज़र डालिए :-

  • वित्त और अकाउंटिंग (Finance & Accounting)
  • संपत्ति का जियो टैगिंग (Geo-Tagging of Asset)
  • कार्यक्रम की रिपोर्टिंग (Program Reporting)
  • ग्राम पंचायत प्रोफाइलिंग (Gram Panchayat Profiling)
  • कार्य योजना निर्माण (Action Plan Creation)
  • गतिविधि आउटपुट (Activity Output)

 

ई-ग्राम स्वराज ऐप Download

ग्राम पंचायतों और ग्रामीणों के लिए ई ग्राम स्वराज ऐप (E Gram Swaraj App) किया गया है। ऐप जल्द ही गूगल प्ले स्टोर में लाइव होगा। आप Google Play Store के माध्यम से अपने एंड्रॉइड फोन पर ऐप डाउनलोड कर सकते हैं। ऐप Apple स्टोर पर भी उपलब्ध होगा जहां से इसे अपने iPhone पर डाउनलोड किया जा सकता है। इस बीच, ऐप को egramswaraj.gov.in के आधिकारिक पोर्टल से डाउनलोड किया जा सकता है। आप इस पोर्टल पर भी जा सकते हैं।

PM Swamitva yojana

ई-ग्रामस्वराज मोबाइल ऐप डाउनलोड करने के लिए आपको जिन चरणों का पालन करना होगा, वह इस प्रकार है:

  • ई ग्राम स्वराज ऐप को डाउनलोड करने के लिए सबसे पहले आपको अपने एंड्रॉइड मोबाइल पर Google Play Store या ऐप स्टोर खोलना होगा। लिंक इस प्रकार है-  E-Gram Swaraj App 
  • पेज इस प्रकार दिखाई देगा।

E-Gram Swaraj App

  • अब आपको सर्च बॉक्स (Search Box) में (e-GramSwaraj) टाइप करें।
  • अब आपके सामने ई-ग्राम स्वराज ऐप आएगी, उसपर क्लिक करें।
  • अब आपको वहां इंस्टॉल (Install) बटन पर क्लिक करना होगा और अपने मोबाइल फोन पर ऐप डाउनलोड करें।
  • इस प्रकार आपके मोबाइल फोन पर E Gram Swaraj App डाउनलोड हो जाएगी।


E-Gram Swaraj App और पोर्टल के लाभ

ई-ग्राम स्वराज के ऐप को लॉन्च करते हुए पीएम मोदी ने इस नए लॉन्च किए गए ऐप और पोर्टल के विभिन्न उपयोग और लाभों के बारे में भी बताया है, जो इस प्रकार है:

  • पीएम के अनुसार, स्वराज ऐप और पोर्टल ग्रामीण क्षेत्रों में भूमि और संपत्ति विवाद को निपटाने में मदद करेगा।
  • सभी ग्राम पंचायत और ग्रामीण के नागरिक इस ऐप या पोर्टल के माध्यम से ऋण के लिए ऑनलाइन आवेदन कर सकते हैं।
  • ग्रामीण के नागरिक इस ऐप और पोर्टल के माध्यम से विभिन्न बैंकों से ऋण प्राप्त कर सकते हैं।
  • स्वराज ऐप और पोर्टल ग्राम की मदद से पंचायतें अपनी सभी ज़रूरतों को डिजिटल कर सकती हैं।
  • इस ऐप के लॉन्च से गाँवों में पंचायतों के ई-गवर्नेंस (e-governance) को भी बढ़ावा मिलेगा।
  • इसके माध्यम से सभी ग्रामीण नागरिक अब गाँव में काम कर सकेंगे और डिजिटल रूप से शासन कर सकेंगे जो उन्हें डिजिटल दुनिया के लाभों से अवगत कराएगा।
  • पोर्टल और ऐप की मदद से काम का विकेंद्रीकरण होगा और काम में पारदर्शिता बढ़ेगी।
  • अब ग्राम स्वराज से जुड़े लोगों के लिए काम की प्रगति की जाँच करना आसान हो जाएगा।

E-GramSwaraj पोर्टल और ई-ग्रामस्वराज App की विशेषताएँ

इस सिंगल प्लेटफॉर्म मॉड्यूल की मुख्य विशेषताएँ कुछ इस प्रकार हैं-

  • पंचायतों की प्रोफाइल बनाए रखना- निर्वाचित सदस्य / प्रतिनिधि, चुनाव विवरण, समिति आदि।
  • यह एक सरल और उपयोगकर्ता के अनुकूल पोर्टल है।
  • कार्य प्रवाह को सक्षम करना।
  • कार्य योजनाओं और गतिविधियों की योजना बनाने में मदद करता है (विशलिस्ट, गतिविधियों की शेल्फ, अभिसरण (COnvergence), संसाधन लिफाफा, कार्य योजना)
  • सभी संपत्तियों के स्टोरेज करने के लिए उपयोग किया जाता है।
  • ग्राम मंचित्रा (GIS) पर परिसंपत्तियों की उपलब्धता प्रदान करता है।
  • इसमें मुख्य रूप से ओपन सोर्स तकनीक पर आधारित मजबूत प्रमाणीकरण तंत्र है।
  • फंड की निगरानी और कार्य-आधारित लेखांकन में मदद करता है।
  • यह वेब-आधारित है और सुविधा 24 घंटे उपलब्ध है।
  • यह पोर्टल सभी प्रमुख ब्राउज़रों- मोज़िला (Mozilla), क्रोम (Chrome), इंटरनेट एक्सप्लोरर (Internet Explorer) को सपोर्ट करता है।

egramswaraj ई-ग्राम स्वराज ऐप का उपयोग कौन कर सकते हैं?

निम्नलिखित निकाय इस पोर्टल के लक्षित उपयोगकर्ता होंगे-

  • शहरी स्थानीय निकाय (जैसे सहयोग, नगर पालिका, टाउन एरिया आदि)
  • ग्रामीण निकाय (जैसे ग्राम पंचायत, ब्लॉक स्तर पंचायत, जिला पंचायत)
  • नागरिक (Citizens)
  • लाइन विभाग (Line Department)


Bottom Line

इस लेख में हमने आपको पीएम स्‍वामित्‍व योजना 2020 (PM Swamitva Yojana) और ई-ग्राम स्‍वराज पोर्टल ऐप (e-Gram Swaraj Portal App) के बारे में पूरी जानकारी दी गई है। E-GramSwaraj App को आप play store और Apple store से प्राप्त कर सकते हैं। किसी और प्रश्न के मामले में, आप हमें नीचे दिए गए टिप्पणी बॉक्स में अपने प्रश्न लिख सकते हैं।

 

Frequently Asked Questions

PM स्वामित्व योजना के क्या लाभ हैं?

पीएम स्वामित्व योजना का मुख्य लाभ पूरे भारत के ग्रामीण क्षेत्रों में सभी भूमि के लिए एक एकीकृत संपत्ति सत्यापन समाधान प्रदान करना है। ग्रामीण निवासी इस योजना के लिए ऋण के लिए आवेदन कर सकते हैं और स्वामित्व प्राप्त कर सकते हैं।


स्वामित्व योजना भारत सरकार द्वारा कब और कैसे शुरू की गई?

राष्ट्रीय पंचायती राज दिवस के अवसर पर प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी जी द्वारा 24 अप्रैल 2020 को वीडियो कॉन्फ़्रेंसिंग के माध्यम से Svamitva योजना शुरू की गई थी।


क्या यह योजना पूरे भारत में PM नरेंद्र मोदी द्वारा शुरू की गई है?

PM Swamitva योजना अभी पायलट मोड चरण में है और अभी भारत में केवल छह राज्यों में लॉन्च की गई है। यह योजना अभी केवल महाराष्ट्र, हरियाणा, कर्नाटक, उत्तर प्रदेश, उत्तराखंड, और मध्य प्रदेश में शुरू हुई है।


PM Narendra Modi द्वारा शुरू किया गया पोर्टल का क्या नाम है?

पीएम द्वारा शुरू किया गया आवेदन और पोर्टल का नाम: ईग्राम स्वराज पोर्टल (eGram Swaraj Portal) है।


मुझे पंचायतों की दैनिक प्रगति रिपोर्ट कहां देखनी चाहिए?

होमपेज पोर्टल पर आप दैनिक प्रगति रिपोर्टिंग की स्थिति पा सकते हैं और इस पोर्टल से कई अन्य सेवाओं का भी लाभ उठाया जा सकता है।

Leave a Comment